My-poetry

अज़ीज़ बचपन

अज़ीज़ बचपन
वो शहर वो अपना मकानं याद आता है, वहां गुज़रा वो जिंदगी का स़फर याद आता है। वो दोस्त,वो गलियां,वो ख़ेल की दुनिया, उन सब का हँसता चेहरा याद आता हैं। वो देर तक चाँद को तकना,वो बादल में खो जाना, टूटते तारे से जो मांगा था वो सपना याद आता हैं।