dk

ये तो शौक है मेरा, दर्द लफ्जो मे बयां करने का..........!! नादान लोग मुझे यूँ ही, शायर समझ लेते है...............!!