3 years ago

अज़ीज़ बचपन

अज़ीज़ बचपनवो शहर वो अपना मकानं याद आता है, वहां गुज़रा वो जिंदगी का स़फर याद आता है। वो दोस्त,वो गलियां,वो read more...